Spirulina: एक सुपर फ़ूड एवं आयुर्वेदिक मल्टीविटामिन सप्लीमेंट

Spirulina
287Views

Spirulina: स्पिरुलिना एक जलीय वनस्पति (नीला-हरा शैवाल) है।  यह शैवाल ताजे पानी की झीलों, प्राकृतिक झरनों और खारे पानी में पाई जाती है।

स्पिरुलिन ( Spirulina ) में उच्च प्रोटीन और विटामिन-B, बीटा-कैरोटीन, और विटामिन-E सहित कई पोषक तत्व पाए जाते हैं। स्पिरुलिना में एंटीऑक्सिडेंट, पोटेशियम, कैल्शियम, सेलेनियम और ज़िंक जैसे खनिज तत्व, क्लोरोफिल और फाइकोसाइनिलिन भी होते है।

इसमें प्रोटीन की मात्रा 80% पायी जाती हैं।  इसमें दूध से 10 गुना ज्यादा कैल्शियम , पालक से 50 गुना ज्यादा आयरन और अंडे से 8 गुना ज्यादा प्रोटीन होता हैं।

स्पिरुलिना ( Spirulina ) एक आयुर्वेदिक मल्टीविटामिन सप्लीमेंट (Multivitamin supliments) की तरह होती है।  स्पिरुलिना को लोग इसकी पोषण सामग्री और स्वास्थ्य सम्बन्धी प्रभावों के कारण सुपरफूड भी मानते हैं।

इस औषधि को मल्टीविटामिन सप्लीमेंट की तरह सेवन किया जाता है।

आमतौर पर शाकाहारी लोगो के द्वारा शाकाहारी प्रोटीन के स्रोत के रूप में उपयोग किया जाता है। इस औषधि के सेवन से शरीर की विटामिन की कमी को दूर होती है, तथा हड्डियों को मजबूत बनाता है. और शरीर के विकास के लिए काम करता है, साथ ही, कमजोरी, दुबलापन, जल्दी थक जाना, भूख न लगना जैसी समस्या में लाभ मिलता है।

स्पिरुलिना ( Spirulina ) में एंटीऑक्सिडेंट गुण होते हैं, जिससे यह प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाने में मदद करता है। यह दवा हमारे शरीर की कई बिमारियों को जड़ से खत्म करने में सहायक होती है।

इसके बारे में यहाँ तक कहा जा चुका हैं अगर खाना न खाकर इंसान सिर्फ इसका सेवन करता रहे तो भी वह जिन्दा रह सकता हैं। ये एक चमत्कारिक औषधि हैं।

हम जानते हैं की कछुआ 400 साल जिन्दा रहता हैं रिसर्च हुई तो पता चला उसका महत्वपूर्ण आहार स्पिरुलिना हैं।

स्पिरुलिना ( Spirulina ) के फायदे:

स्पिरुलिना कैप्सूल स्पिरुलिना व अस्वगंधा के मिश्रण को मिलाकर बनाया जाता है। स्पिरुलिना अश्वगंधा कैप्सूल को आपके आहार पूरक के रूप में प्रयोग किया जाता है।

इस दवा में कई एंटीलर्जिक,​​ एंटीवायरल, एंटीट्यूमर, एंटीऑक्सीडेंट व एंटीडाइबेटिक गुण मौजूद होते है। जो आपको कई प्रकार कई परेशानियों में बहुत राहत पहुचाने का कार्य करती है।

यह औषधि में प्रतिरक्षा प्रणाली (Immunity System) को मजबूत बनाने की आपार क्षमता होती है और बीमारियों से हमें बचाता है। इसमें 10 से अधिक प्रकार के विटामिंस और मिनरल्स पाए जाते हैं जो कमजोरी और दुर्बलता को दूर करने के लिए अति आवश्यक है।

इसके नियमित सेवन से हड्डियां मजबूत बनती हैं और शरीर में कैल्शियम की कमी दूर करती है. क्योंकि इसमें प्रचुर मात्रा में Calcium पाया जाता है।

स्पिरुलिना कैप्सूल कोलेस्ट्रोल लेवल को कम करता है शुगर लेवल को नियंत्रित करता है दिल को मजबूत बनाता है और प्रतिकारक शक्ति को बढ़ाकर शरीर में ताकत बढ़ाकर दिनभर तरोताजा रखने में मदद करता है।

 

त्वचा के लिये फायदेमंद:

स्पिरुलिना में पाए जाने वाले एंटीडाइबेटिक व जीवाणुरोधी गुण आपकी त्वचा को कोमल व सुंदर बनाने का कार्य करती है।

यदि आपकी त्वचा एक उम्र से पहले ही शुष्क व कमजोर होने लगी है , जिसकी वजह से आपको समाज में कई तरह की परेशानी व शर्म का सामना करना पड़ रहा है,  तो यह दवा पूर्ण रूप से आपके लिए ही है।

स्पिरुलिना ( Spirulina ) के सेवन से आपके रक्त संचार में काफी सुधार आता है, जो आपकी त्वचा को सुन्दर व को कोमल और जवान बनाने में मदद करते है | और लम्बी आयु प्रदान करता हैं।

लिवर के लिये फायदेमंद:

स्पिरुलिना में उच्च फाइबर की मात्रा मौजूद होती है,  जो आपके लिवर को स्वस्थ बनाने का कार्य करती है । यदि आप लिवर से जुडी समस्या से ग्रस्त है, और अपनी इस परेशानी को जड़ से खत्म करके स्वस्थ बनाना चाहते है, तो इस दवा केर सेवन से आप लिवर के साथ साथ अपने शरीर को भी स्वस्थ बना सकते है।

आप इस दवा का सेवन सभी प्रकार के हेपेटाइटिस व सिरोसिस जैसे रोगों में भी कर सकते है।

यौन कमजोरी को दूर करती है:

स्पिरुलिना शुक्राणु क्षमता को बेहतर बनाने का कार्य करती है । इस दवा के सेवन से गुप्त अंग में हार्मोन्स क्षमता को बेहतर बनाने का कार्य करती है , जो आपके शुक्राणु क्षमता को मजबूत बनाती है आपकी सभी प्रकार की यौन कमजोरी को दूर करके सम्भोग क्षमता में बढ़ोतरी लाती है।

यौन कमजोरी में शिलाजीत को सबसे ज्यादा शक्ति वर्धक के रूप में जाना जाता हैं लेकिन स्पिरुलिना शिलाजीत से भी ज्यादा शक्तिवर्धक हैं, क्योकि इसमें यौन रोग से लड़ने की आश्चर्यजनक शक्ति होती हैं। इस के नियमित सेवन से यौन शक्ति काफी हद तक बढ़ जाती हैं।

शरीर में शुक्राणु की कमी के कारण आपको गर्भधारण न कर पाना व बांझपन जैसी समस्या का सामना करना पड़ता है,  जो कि किसी भी महिला व पुरुष के लिए एक गंभीर परेशानी होती है।

यदि आपको भी गर्भधारण करने में दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है, तो इस दवा का सेवन अवश्य करना चाहिए।

वायरल संक्रमण को खत्म करती है:

स्पिरुलिना में पाए जाने वाले एंटीलर्जिक​​ व एंटीवायरल गुण आपकी वायरल समस्या को जड़ से खत्म करने में आपकी मदद करते है।

वायरल संक्रमण की परेशानी अधिकतर मौसम के परिवर्तन व खराब खानपान के कारण अधिक जन्म लेती है | इस परेशानी में आपको उल्टी, दस्त बुखार व कमजोरी की समस्या आने लगती है | यदि आप भी कुछ इसी प्रकार की समस्या से परेशान है, तो आपको स्पिरुलिना का सेवन करना चाहिये।

स्पिरुलिना के अन्य फायदे:-

  • स्पिरुलिना आँखो की रौशनी में सुधार करता है
  • स्पिरुलिनाअर बालों को बढ़ने में मदद करता है
  • स्पिरुलिना हीमोग्लोबिन में सुधार करता है
  • स्पिरुलिना प्राकृतिक विटामिन बी 12 और आयरन से भरपूर है
  • स्पिरुलिना शरीर में खून को साफ करता है
  • स्पिरुलिना ऊर्जा के स्तर को बढ़ाता है
  • स्पिरुलिना दिल को स्वस्थ बनाये रखता है और ह्रदय के सभी कार्यों को सुचारु रूप से बनाए रखता है
  • स्पिरुलिना को आप प्रेग्नेंसी में सेवन कर सकती हैं जिससे आप के अंदर आयरन की कभी कमी नहीं होगी।
  • स्पिरुलिना के सेवन से कैंसर जैसी गंभीर और भयानक रोग से बचाव किया जा सकता हैं।

स्पिरुलिना –  सेवन विधि:

Spirulina

आपको इस दवा का सेवन दिन में दो बार दूध के साथ लेना चाहिये। आप चाहे तो इस दवा का सेवन गुनगुने पानी के साथ भी कर सकते है ।

आप इस दवा का सेवन खाली पेट व भोजन के बाद भी कर सकते है ।

स्पिरुलिना – हानिकारक प्रभाव:

स्पिरुलिना अश्वगंधा capsules के सेवन से किसी भी प्रकार कि कोई हानि नही पहुंचती है।

यदि इस दवा का सेवन अधिक मात्रा व कम उम्र के बच्चे यानी 18 साल से कम बच्चे को करवाया जाये तो इससे उच्च रक्तचाप, उल्टी, दस्त व चक्कर जैसी समस्या का सामना करना पड़ सकता है।

इसीलिए इस दवा का सेवन दिन में केवन दो बार ही करे| मधुमेह गर्भावस्था व स्तनपान करवाने वाली महिला को इस दवा के सेवन से पहले एक बार डॉक्टर से जरुर सलाह ले लेनी चाहिये।

यह भी पढ़ें –  Bhringraj: जानिए क्या है आयुर्वेदिक चिकित्सा में भृंगराज का महत्त्व

admin
the authoradmin

Leave a Reply

18 + fifteen =