Shilajit: आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति में सबसे महत्वपूर्ण पदार्थों में से एक माना जाता है

Shilajit
127Views

शिलाजीत ( Shilajit ) : हमारे देश में पुराने समय से ही बड़ी से बड़ी बीमारी और असाध्य रोगो को प्राकृतिक से प्राप्त जड़ी बूटियों के द्वारा ठीक किया जाता रहा है।

हमारे ऋषि महर्षियो ने आयुर्वेद में सभी जड़ी बूटियों का विस्तार से वर्णन किया गया है। इन सभी जड़ी बूटियों में से एक शिलाजीत ऐसी जड़ी बूटी है।  जिसका सबसे चमत्कारिक प्रभाव देखने को मिलता है।

आयुर्वेद में शिलाजीत ( Shilajit ) की बहुत प्रशंसा की गई है इसे बलपुष्टिकारक, ओजवर्द्धक, दौर्बल्यनाशक एवं धातु पौष्टिक बताया गया है आयुर्वेद के हिसाब से हमारे शरीर में 7 अलग अलग तरह के धातु पाए जाते है।

रस, रक्त, मांस, मेद, अस्थि, मज्जा, और शुक्र शिलाजीत एक मात्र ऐसी औषधि है जिनका प्रभाव सभी धातुओं पर होता है।

शिलाजीत में 85 तरह के नूट्रिएंट होते है जिसके कारन इसमें एनर्जी और ताकत बढ़ाने की अद्भुत क्षमता होती है। इन गुणों के कारण संपूर्ण स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव होता है।

यह बहुत  प्रभावी और सुरक्षित है.शुद्ध शिलाजीत निरंतर सेवन करने से शरीर पुष्ट तथा स्वास्थ्य बढ़िया रहता है। आयुर्वेद में ऐसे कई योग हैं, जिनमें शुद्ध शिलाजीत होती है।

शिलाजीत ( Shilajit ) को इंडियन वियाग्रा कहा जाता है। यह कामोत्तेजना बढ़ाने का काम करता है।

शिलाजीत के फायदे इतने अधिक है की इसे कई तरह की बीमारियों को ठीक करने में काम में लिया जाता है। दरअसल शिलाजीत में कुछ ऐसे पोषक तत्व पाए जाते है,जिनसे उन बीमारियों को भी पूरी तरह ठीक किया जा सकता है, जिनका आज के समय में मेडिकल साइंस में भी कोई इलाज नहीं है।

शिलाजीत कैसे प्राप्त किया जाता है:-

शिलाजीत सदियों पुराने, विघटित पौधों से बना है जो कि विटामिन, खनिज और अन्य पोषक तत्वों का शक्तिशाली स्रोत हैं। जिस तरह हमें पेड़ो से गोंद प्राप्त होता है उसी तरह शिलाजीत पहाड़ो से निकलने वाला एक तरह का गोंद या टार है।

शिलाजीत ( Shilajit ) गर्मी में पहाड़ों के पसीने के रूप में निकलता है।  इसके अंदर पहाड़ो की चट्टानों और पेड़ पौधों में पाए जाने वाले प्राकृतिक खनिज लवण पाए जाते है।

शिलाजीत देखने में तारकोल के समान काला और गाढ़ा चिपचिपा पदार्थ होता है जो सूखने पर चमकीला हो जाता है। यह खासकर तिब्बत और हिमालय की चट्टानों में ज्यादा मात्रा में पाया जाता है।

हिमालय की ऊंचाइयों पर पर्वतो से निकलने वाला शिलाजीत ही सबसे असरदार माना जाता है। जो मूलतः हिमालय के पहाड़ भारत नेपाल पाकिस्तान तिब्बत जैसे सात देशों में फैले हुए है।

शिलाजीत के फायदे:-

Shilajit

शिलाजीत ( Shilajit ) को भारतीय आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति में सबसे महत्वपूर्ण पदार्थों में से एक माना जाता है। यह लंबी उम्र और कई अन्य बीमारियों के लिए हजारों वर्षों से उपयोग किया जा रहा है।

शिलाजीत में फुलविक एसिड पाया जाता है जो हमारी ताकत बढ़ाने वाला और कई रोगो को दूर करने वाला होता है आइये जानते है शिलाजीत के फायदे।

1.) शरीर में आयरन की कमी (एनीमिया) की समस्या

शरीर को पर्याप्त मात्रा में आयरन न मिलने से खून की कमी हो जाती है। इसकी वजह से थकान, कमजोरी, सिरदर्द, हृदय की गति बढ़ना और हाथ पैर ठंडे पड़ जाते हैं।

शिलाजीत ( Shilajit ) की खुराक लेने से शरीर में धीरे-धीरे आयरन की कमी पूरी होने लगती है। शिलाजीत में अच्छी मात्रा में आइरन पाया जाता है। आइरन हमारे रक्त में हीमोग्लोबिन को बढ़ाता है। हीमोग्लोबिन शरीर के सभी हिस्सों में ऑक्सीजन को पहुंचाने का काम करता है। जिसकी वजह से शरीर में ऑक्सीजन का संचार तेजी से होता है और शरीर में ताजगी बनी रहती है।

यह शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं की संख्या को बढ़ाता है जिससे एनीमिया की समस्या अपने आप खत्म हो जाती है। ऑक्सीजन हमारे शरीर के बॉडी सेल्स की मरम्मत और निर्माण का काम करती है।

 2.) हड्डियों की मजबूती के लिए

शिलाजीत में कैल्शियम, मैग्नेशियम, निकल और स्ट्रोंटियम पाया जाता है | जो हमारी हड्डियों को मजबूत बनाता है | यह हमारी हड्डियों की कमजोरी को दूर करके अर्थराइटिस और आस्ट्रियोप्रोसिस जैसी बीमारियों में राहत प्रदान करता है।

3.) बालो के लिए लाभदायक

शिलाजीत में बहुत से ऐसे मिनिरल्स होते है जिनमें से ज़िंक, मैग्नीशियम, सल्फर, विटामिन्स आइरन और फुलविक एसिड हमारे बालों के लिए बहुत ही लाभकारी होते है।

हमारे वातावरण के विषैले तत्वों और भारी धातुई कणो के कारण हमारे रोम कोशिकाएं कमजोर होकर नष्ट होने लगती है | जिसके कारण बाल तेजी से झड़ने लगते है।

शिलाजीत ( Shilajit ) में फुलविक एसिड होता है जो की इन विषैले तत्वों और भारी धातुई कणो को पिघलाकर दूर करता है | साथ ही फुलविक एसिड हमारी कोशिकाओं की दीवारों को लचीला बनाता है।

जिससे की भोजन के पोषक तत्व ये कोशिकायें गहराई तक अवशोषित कर सके| जिससे बालों की जड़ों को भरपूर पोषण मिलता है। जो बालों का विकास के लिए लाभदायक होता है।

शिलाजीत ( Shilajit ) में सल्फर भी की अच्छी मात्रा होती है | और इसके सेवन से यह अंदरूनी तौर पर सल्फर की आपूर्ति करता है जो की हमारे बालों के विकास के लिए फायदेमंद होता है ।

जिन लोगों में जिंक की कमी होती है उनमें प्रोटीन सरंचना की कमी पायी जाती है | और प्रोटीन संरचना की कमी से बालों की कोशिकाएँ कमजोर होने से बालों के फॉलिकल्स में बालों की कमी, बालों का नस्ट होना और नए बालों का उत्पादन बंद हो जाता है | इसलिए बालों की अच्छी वृद्धि के लिए शरीर में प्रोटीन की आपूर्ति सुनिश्चित करने के जिंक का होना जरुरी है ।

4.) यौन शक्ति बढ़ाने के लिए

शिलाजीत पुरुषों में यौन शक्ति को बढ़ाता है और बढ़ती उम्र को रोकता है। शिलाजीत यौन समस्याएं (sexual problems) में सबसे अधिक फायदेमंद होता है।

इसके सेवन से शरीर में स्रावित यौन हार्मोन (sexual hormone) जैसे एस्ट्रोजन, टेस्टस्टेरॉन और एंड्रोजन पर सकारात्मक प्रभाव डालता है यह शरीर में आयी यौन कमजोरी (sexual weakness) जैसे नपुसंकता, स्वप्नदोष, शीघ्र स्खलन का निदान शिलाजीत के सेवन से पूरी तरह ठीक किया जा सकता है|

शिलाजीत के बारे में कहा जाता है की इसके सेवन से बूढ़े लोगो में भी जवानी आ जाती है। क स्टडी की गई जिसमें 45 से 55 साल की उम्र के कुछ पुरुषों को दिन में दो बार 250 मिलीग्राम शिलाजीत की खुराक दी गई।

स्टडी में पाया गया कि लगभग तीन महिने में शिलाजीत की खुराक लेने वाले पुरुषों के टेस्टोस्टीरॉन का लेवल बढ़ चुका था। स्टडी में शामिल 80% प्रतिशत पुरुषों के स्पर्म में वृद्धि हो गई।

शिलाजीत हमारे शरीर पर होने वाले बढ़ती उम्र के प्रभाव को भी कम करता है यह हमारी त्वचा को पोषण प्रदान करता है जिससे डेड स्किन झुर्रिया दूर होती है और चेहरे पर ग्लो बना रहता है।

 5.) प्रतिरक्षा प्रणाली (इम्यून सिस्टम) को मजबूत बनाता है

शिलाजीत ( Shilajit ) में मौजूद विटामिन बी, कॉपर और फुलविक एसिड हमारे इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाता है ।

जिससे बीमारिया और बुखार जैसी चीजे हमारे शरीर में आम लोगों के मुकाबले ज्यादा जल्दी ठीक होने लगती है | शिलाजीत का सेवन करने से हमारे शरीर के जख्मो को भरने की क्षमता बढ़ती है ।

त्वचा में मौजूद लैंगरहेंस कोशिकायें हमारी त्वचा की प्रतिरक्षण प्रणाली को मजबूत करती है | हमारी त्वचा पर हमेशा बैक्टीरिया और अन्य तरह के तत्व लगातार हमारी एपिडर्मिस यानि की बाहरी त्वचा पर प्रहार करते रहते है| शिलाजीत में अच्छी मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है जिससे हमारी त्वचा की लैंगरहेंस कोशिकाओं मजबूत बनती है और इन हानिकारक बैक्टीरिया से हमारी रक्षा करती है।

 6.) डिप्रेसन मे लाभकारी

Shilajit

शिलाजीत के सेवन से नर्वस सिस्टम सही से काम करता है। मानसिक थकावट, अवसाद, तनाव और चिंता से लड़ने के लिए शिलाजीत का प्रयोग किया जाता है।

जिन लोगो को डिप्रेसन की शिकायत है और हमेशा दिमाग में टेंसन रहती हो ऐसे लोगो को भी टेंशन और डिप्रेशन दूर करने के उपाय के रूप में शिलाजीत लाभकारी रहता है और इसके सेवन से दिमाग को शांति मिलती है | इसके अलावा अगर पढाई में दिमाग नहीं लगता हो या दिमाग अस्थिर रहता हो उसमे भी शिलाजीत के सेवन से तेजी से फायदा मिलता है ।

शिलाजीत में फुल्विक एसिड नामक एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है जो न्यूरॉन में अधिक टॉ प्रोटीन जमा होने से रोकता है इससे हमारी यादाश्त की क्षमता बढ़ती है।

शिलाजीत ( Shilajit ) के फायदे आलस या थकान की समस्या को दूर करने में बहुत अधिक लाभकारी है | इसके अलावा मोटापे, सोराइसिस, एक्जिमा, दाग, अल्जाइमर जैसी बीमारियों भी इसके सेवन से तेजी से ठीक होने लगती है।

शिलाजीत के फायदे किसी भी हेल्थ टॉनिक से कई गुना अधिक है | साथ ही ऐसा भी नहीं है की इसका इस्तेमाल केवल पुरुष कर सकते है | बल्कि बच्चो से लेकर महिलाये और बूढ़े लोग तक हर कोई इसका सेवन कर सकता है और इसके चमत्कारिक लाभों को प्राप्त कर सकता है।

 

 किन किन लोगो को शिलाजीत का सेवन नहीं करना चाहिए

शिलाजीत एक पावरफुल औषधि है, इसलिए इसका 3 महीने से ज्यादा इस्तेमाल ना करें | 3 महीने के बाद 1 महीने का ब्रेक लेकर इसका दुबारा इस्तेमाल किया जा सकता है ।

शिलाजीत की तासीर गर्म होती है इसलिए इसका सेवन सर्दियों के मौसम में ही करें।

जिन लोगो को गंभीर दिल की बीमारी या हाई ब्लड प्रेशर है उन लोगो का इसे सेवन नहीं करना चाहिए ।

जो लोग हार्मोन्स को बढ़ाने या घटाने की दवाई ले रहे हो उन्हें भी शिलाजीत का सेवन नहीं करना चाहिए 12 साल से कम उम्र के बच्चो और गर्भवती महिलाओ को भी शिलाजीत का सेवन नहीं करना चाहिए।

बुखार और इन्फेक्शन के समय भी शिलाजित का सेवन वर्जित माना गया है।

Note: अगर आप पहले से कोई दवा खा रहे हों तो शिलाजीत का सेवन करने से पहले डॉक्टर से परामर्श लें, अन्यथा शिलाजीत का साइड इफेक्ट हो सकता है।

यह भी पढ़ें – Safed Musli: जानिए सफ़ेद मूसली की चमत्कारी फायदे एवं सेवन विधि

 

admin
the authoradmin

Leave a Reply

two × 4 =