सम्भोग से स्वास्थ्य

सम्भोग से स्वास्थ्य
639Views
World’s Largest Digital Magazine

सम्भोग से स्वास्थ्य : हिदू धर्म के मूल सिद्धांत धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष है। इन मूल सिद्धांत में काम का अर्थ काम-क्रियाओं से है। इन काम-क्रियाओं को संभोग या सहवास कहते है।

भारतीय आध्यात्मिकता में  संभोग को भी मोक्ष का एक रास्ता माना जाता रहा है। इसका उल्लेख सनातन धर्म ग्रंथों में भी किया गया है।आचार्य वात्सायन की कामसूत्र ग्रंथ में काम-क्रियाओं का विस्तृत वर्णन मिलता है। खजुराहो के मंदिरों में कामुक कला को इन मूर्तियों के रूप में दर्शाया गया है।

हिन्दू प्राचीन नियमों के अनुसार सहवास से वंशवृद्धि, मैत्रीलाभ, साहचर्य सुख, मानसिक रूप से परिपक्वता, दीर्घायु, शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य सुख की प्राप्ति हासिल की जा सकती है।

सम्भोग मानव जीवन का एक अभिन्न अंग है। सम्पूर्ण जीव-जगत इसके बिना बिलकुल ही अपूर्ण है।

सम्भोग करने के आश्चर्यजनक फायदे –

सम्भोग करने के आश्चर्यजनक फायदे

सम्भोग का स्वास्थ्य के साथ गहरा संबंध है। सम्भोग से अद्भुत स्वास्थ्य की प्राप्ति होती हैं ।

सम्भोग स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होता है। एक शोध के अनुसार सम्भोग ही एक ऐसी क्रिया है। जो सम्पूर्ण शरीर को शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक रूप से सक्रिय करती है।

Kapiva [CPS] IN

सम्भोग से पुरुष और महिला दोनों के जीवन में सकारात्मक परिवर्तन आते हैं। नियमित रूप से सफल सम्भोग करने वाले साथी अक्सर अधिक स्वस्थ और सुखी देखे जाते हैं। उनकी सुंदरता भी अधिक उम्र तक बनी रहती है और यौवन खिलता रहता है। उनमें आत्मविस्वास, उत्तेजना और उमंग भी अधिक होती है। सम्भोग आपको लंबे समय तक युवा और स्वस्थ बनाए रखने में मदद करती है।

क्या अपने स्वास्थ्य में सुधार चाहते है , या अपने मनोदशा को boost करना चाहते है या कैंसर होने की संभावना को कम करना या हृदय को स्वस्थ रखना चाहते या अन्य बीमारियों से अपना बचाव करना चाहते है तो इसके लिए कोई राम बाण दवा नहीं है. इस सब की दवा आप स्वयं में निहित सम्भोग में है जो आपके सम्पूर्ण स्वास्थ्य को आश्चर्यजनक तरीको से सुधार करता है।

1. युवा और स्वस्थ बनाए रखता है

एस्ट्रोजन हमारे शरीर के लिए एक वरदान है, जो हमें एक अदभुत सुख की अनूभूति कराता है। एक शोध के अनुसार सम्भोग के दौरान हमारे शरीर से एस्ट्रोजन (estrogen) नामक हॉर्मोन निकलता इसके कारन हमारी त्वचा सुन्दर, चिकनी और चमकदार भी बनी रहती है। एस्ट्रोजन हार्मोन्स के कारण त्वचा के खिंचाव बना रहता है जिस से चेहरे पर झुर्रियां नहीं आती और त्वचा सदा युवा बनी रहती हैं।

वैज्ञानिकों के अनुसार पुरुषो के स्पर्म में एक प्रकार का एंटी एजिंग प्रोटीन पाया जाता है जो महिलाओं की त्वचा और चेहरे की झुर्रियों को कम करने के लिए काफी असरदार होता है।

 2. रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है –

एक शोध में देखा गया कि नियमित रूप से संभोग करने वालों का इम्यून सिस्टम ज्यादा मजबूत होता है उनके शरीर में अधिक एंटीबॉडी मौजूद रहती है। रिसर्च दिखाती है कि नियमित रूप से संभोग करने वाले लोग कम बीमार पड़ते है।

जो महिलाएं सप्ताह में कम से कम एक बार सम्भोग करती हैं, उनकी लार में इम्युनोग्लोबुलिन ‘ए’ का स्तर अधिक पाया गया इम्युनोग्लोबुलिन ‘ए’ एक एंटीबॉडी है, जो आपके शरीर को बाहरी हानिकारक बैक्टीरिया और वायरस से लड़ने में मदद करती है। जो शरीर को सर्दी और संक्रमण से बचाता है।

3. मानसिक तनाव काम होता है –

सम्भोग  तनाव को कम करने में मददगार साबित होता है। दरअसल, सम्भोग  के दौरान, आपके कॉर्टिसोल (स्ट्रेस हार्मोन) का स्तर नीचे गिर जाता है और मस्तिष्क में डोपामाइन (हैप्पी हार्मोन) का स्तर बढ़ जाता है। इससे आपके मन को शांति मिलती है और मानसिक तनाव काम होता है। मनोवैज्ञानिक के अनुसार संभोग आदमी को ना केवल तनाव से मुक्ति देता है बल्कि यह आत्मविश्वास भी बढ़ाता है।

तनाव से बचने के लिए और दिमाग को तरोताजा रखने के सम्भोग करना सबसे उचित उपाय है। सम्भोग  के दौरान हमारे शरीर से फेरोमोन्स (pheromones) नामक रसायन निकलता है, जिससे हमारा शरीर सुगन्धित हो उठता है।

इसे सम्भोग इत्र (sex perfume) भी कहा जाता है क्योंकि यह सम्भोग  के सुख को बढ़ाने के लिए प्राकृतिक परफ्यूम का काम करता है। यह परफ्यूम दिमाग को अत्यधिक शांति और सुख प्रदान करता है। यह हमारे शरीर को उच्च रक्तचाप (hypertension), मानसिक तनाव (mental stress), ह्रदय रोग और दिल का दौरा (heart attack) जैसी गंभीर बीमारियों से दूर रखता है।

 4. सम्भोग एक अच्छा व्यायाम भी है –

सम्भोग  को एक अच्छा व्यायाम (एक्सरसाईज) भी माना गया है। सम्भोग के दौरान हमारे कई अंग व्यायाम की तरह ही काम करते है। इस दौरान हमारा शरीर काफी मात्रा में ऊर्जा खर्च करता है  वैज्ञानिकों के अनुसार संभोग के दौरान एक घंटे में एक महिला का लगभग 70 से 120 कैलोरी और एक पुरुष का 77 से 155 कैलोरी नष्ट होती है। जिससे शरीर में जमा अतिरिक्त चर्बी कम होती है। शरीर का मोटापा (obesity) को दूर होती है। और जो शरीर की मांशपेशियों के खिंचाव (muscle stress) को दूर करके इसे लचीला बनाता है।

5. स्वस्थ्य हृदय के लिए अच्छा होता है –

नियमित रूप से संभोग करने से शरीर की धमनियों में खून का सर्कुलेशन अच्छे से होता है, जिससे हृदय स्वस्थ बनता है। संभोग से महिलाओ में एस्ट्रोजन और पुरुषो में टेस्टोस्टेरोन के स्तर को संतुलित रखने में मदद मिलती है। जो स्वास्थ्य हृदय और हड्डियों के लिए महत्वपूर्ण है| उनमें उच्च रक्तचाप और अन्य समस्याओं का जोखिम कम होता है। और जब इन हार्मोन्स का स्तर असंतुलित होता है तो ऑस्टियोपोरोसिस और हृदय रोग की संभावना बढ़ जाती है।

नियमित रूप से सहवास करने से पुरुष में स्ट्रोक होने की संभावना कम होती है

6. तनाव से मुक्ति और बेहतर नींद के लिए –

Sambhog Se Swasthya

आपने अक्सर यह महसूस किया होगा कि सम्भोग  के बाद अच्छी नींद आती है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि, सम्भोग  करने के दौरान  प्रोलैक्टिन नामक हार्मोन का स्तर बढ़ जाता है, जो तनाव से मुक्ति और बेहतर नींद के लिए जिम्मेदार होता है.

7. प्रोस्ट्रेट कैंसर का खतरा कम होता है –

नियमित सहवास करने पर पुरुषों में प्रोस्‍ट्रेट कैंसर का खतरा कम हो जाता है। सम्भोग दौरान पुरुषों के लिंग से जो वीर्य  निकालता है उस का निर्माण प्रोस्टेट ग्रंथि में होता है। और जब आप सम्भोग करना बंद कर देते हैं तब वीर्य उसी ग्रंथि में जमा रह जाता है जिससे आपको प्रोस्ट्रेट कैंसर का खतरा बढ जाता है।

रिसर्च में यह पाया गया है कि जो पुरुष महीने में कम से कम 21 बार स्खलित होते है, उनमे प्रोस्टेट कैंसर की संभावना कम होती है।

8. दर्द से राहत –

यौन संबंधों  के दौरान एन्दोर्फिंस नाम का हार्मोन निकलता है जो शरीर मे होने वाले दर्द के एहसास को कम करता है। जो मॉर्फिन जैसी मादक दवाई से भी अधिक पावरफुल होता है।

Kapiva [CPS] IN

माइग्रेन, सिरदर्द, उन्माद, दिमाग की नसों में दबाव आदि समस्याओं का सम्भोग एक सबसे सफल इलाज है।

सम्भोग से महिलाओं में पीठ और टांगों के दर्द, मासिक स्राव के दौरान पेट दर्द और सिरदर्द में आराम मिलता है।

  9. प्यार बढ़ता है –

सुबह सहवास करने से आप फ्रेश फील भी करते हैं। सुबह सम्भोग  करने से मस्तिष्क में  ‘ऑक्सीटोसिन’ का निर्माण होता है ऑक्सीटोसिन एक ऐसा रसायन है जो मस्तिष्क में प्यार और संबंध को नियंत्रित करने में सहायता करता है। सुबह के समय शारीरिक संबंध स्थापित करने से इस हार्मोन की अधिक मात्रा उत्सर्जित होती है पार्टनर के प्रति लगाव ज्यादा महसूस होता है।

 विशेषज्ञों की सलाह (Experts Column)

विशेषज्ञों के अनुसार सम्भोग करने के तरीके के साथ-साथ सम्भोग  करने का समय भी काफी महत्वपूर्ण होता है। अगर आप अपने यौन क्रिया को और अधिक स्वाथ्यकारी बनाना चाहते हैं तो आपको रात के बजाय सुबह सम्भोग  करना चाहिए। यह आपको उमंग और उत्तेजना भर देता है। जिस से आपक अधिक हल्का और फ्रेश महसूस होता है।

सुबह-सम्भोग  के बाद शरीर को स्वच्छ करना (शॉवर लेना) चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि सम्भोग  के दौरान पसीना निकलता है. और यही पसीना संक्रमण की वजह बनता है।

हालाँकि, सहवास के बाद शरीर गर्म रहता है इसलिए सम्भोग करने के बाद अगर गुनगुने पानी से स्नान लिया जाए, तो बेहतरीन नींद आती है और स्वास्थ्य भी ठीक रहता है।

सम्भोग के बाद स्नान शरीर को ताजगी से भर देता है जो आपके आनंद की अनुभूति को दोगुना कर देता है यह शरीर को स्वस्थ और सुगंधित बनाए रखने के लिए जरूरी है।

Firstcry [CPS] IN

सम्भोग से अतीन्द्रिय सुख प्राप्त होता है सम्भोग के माध्यम से ही सुख, शांति व आनंद की प्राप्ति होती है। सम्भोग आपको लंबे समय तक युवा और स्वस्थ बनाए रखने में मदद करता है।

World’s Largest Digital Magazine
admin
the authoradmin

Leave a Reply

3 + thirteen =